Facebook

Subscribe for New Post Notifications

Arquivo do blog

Categories

Ad Home

BANNER 728X90

Labels

Random Posts

Recent Posts

Recent in Sports

Header Ads

test

Popular Posts

Pages

Business

Fashion

Business

[3,Design,post-tag]

FEATURED POSTS

Theme images by Storman. Powered by Blogger.

Featured post

पंचतंत्र कहानियाँ Hindi stories for kids panchatantra

हम लाये है आप के लिए panchtantra ki kahaniya या फिर कहे bachon ki kahaniyan in hindi इस आर्टिकल में आप को moral stories for childrens in hi...

Featured

Saturday, 21 November 2015

डेंगू का कारण, लक्षण और उपचार संबंधी जानकारी dengue fever treatment in hindi

इस पोस्ट मे आप को dengue ka ilaj और dengue treatment in hindi इसके साथ ही ayurvedic treatment for dengue के बारे मे बताया गया है.इस पोस्ट को पढने के बाद dengue ke lakshan kya hota hai भी आप कोपता चल जायेगा.इस पोस्ट को आप ध्यान से पढ़े और दुसरो को भी पढाये क्यों की हमारा नारा है रोग मुक्त भारत चाहयिए हमे.
                                      

डेंगू का इलाज बहतु सरल है लेकिन अगर आप को इसकी जानकारी शुरुआत मे हो जाये तो.इसलिये अगर आप को डेंगू के जरा से भी लक्षण देखने को मिले तो बिना देरी किये चेक कराए .इसलिए इस पोस्ट मे मैंने आप को डेंगू के लक्षण भी बताये है जिस आप तुरंत पकड़ लेंगे की आप को डेंगू है की नहीं.आप एक बार डॉक्टर से जरुर सलाह ले क्यों की डेंगू खतरनाक है.
डेंगू (डीएनजीजी-गे) फीवर मच्छर से होने वाली  बीमारी है डेंगू बुखार से , दांत, और मांसपेशी मे  दर्द का कारण बनता है।डेंगू बुखार के लास्ट स्टेज को डेंगू हेमोरेजिक बुखार बोला जाता है.डेंगू के लाखो मामले हर साल आते है पूरी दुनिया से.इसके लिए सब से अच्छा उपाय है की आप अपने घर को मच्छर मुक्त बनाये.
लक्षण क्या हैं?
डेंगू बुखार को "ब्रेकबोन बुखार" कहा जाता था, जो आपको कभी-कभी गंभीर हड्डी और मांसपेशी दर्द का कारण बनता है।ऐसा लगता है जैसे की हमारे शरीर की हड्डियों  टूट रही हो.
डेंगू बुखार के लक्षण आम तौर पर संक्रमित होने के 4 से 14 दिनों के बाद सामने आते हैं।
डेंगू बुखार होने से 
हाई बुखार

  • अगर आप को डेंगू हो गया है तो आप को बहुत तेज फीवर हो सकता है लगभग-104 एफ डिग्री 
  • अगर आप को डेंगू  भुखार हुआ है तो आंखों के पीछे  और जोड़ों इसके साथ मांसपेशियों,या हड्डियों में दर्द हो सकता है
  • डेंगू होने भयानक सर दर्द होता है
  • ये भी देखा गया है की कुछ लोगो मे लाल चकत्ते पड़ जाते है
  • अगर आप के नाक या मसूड़ों से खून बह रहा है तो भी आप सावधान हो जाये ये सही संकेत नहीं है आप के लिए
  • आसानी से चोट लगाना

डेंगू के कारगार उपाय


  • अगर आप को डेंगू हो गया है तो इसके इलाज में बकरी का दूध बहुत फायदेमंद है
  • क्या आप को पता है डेंगू किस मच्छर के काटने से होता है?तो मे आप को बता दू एजीज मच्छर के काटने से होता  है।
  • एजीज मच्छर लोगो को  दिन  काटते हैं।   
  • अगर आप बकरी का दूध पीते है तो इसके सेवन से प्लेटलेट्स बहुत  तेजी से बढ़ती हैं।इसलिये इसका दूध बहुत ही कारगार है


डेंगू होता कैसे है?


जब एक डेंगू वाला मच्छर व्यक्ति को काटता है, तो व्यक्ति वायरस से संक्रमित हो जाता है
जो इस बीमारी का कारण होता है।डेंगू बुखार कोई संक्रामक नहीं है, इसलिए यह सीधे व्यक्ति से व्यक्ति तक फैल नहीं सकता है। सब से मजे की बात ये है की ये मच्छर दिन के टाइम मे काटते है .इसलिये अगर आप को कोई मच्छर दिन मे काट रहा है तो सावधान हो जाये.

बकरी के दूध के फायदे


बकरी का दूध आप की पाचन शक्ति को भी बढाता है इसके साथ ही आप को चुस्ती और फुर्ती देता है
इसके सेवन से आप को सर दर्द,या फिर थकान और अगर आप की मांस पेशियों में खिंचाव है तो ये बहुत आराम
देता है.बकरी के दूध मे एक तत्व पाया जाता है जिसको सेलेनियम कहते है ये बकरी के दूध मे सब से जाता पाया जाता है.ये हमारी बॉडी की रोगे से लड़ने की छमता को बढाता है. एचआईवी  की बीमारी मे भी इसको रामबाण माना गया है


पपीता के  पत्तियां का जूस
अगर आप डेंगू से पीड़ित है तो एक और बहुत ही प्रभावी उपाय पपीता के पत्ते के रस को पीना  है। 
पपीता के  पत्तियों को डेंगू बुखार के लिए प्राकृतिक इलाज माना जाता है। 

इसकी पत्तियों में पोषक तत्वों और कार्बनिक यौगिकों का मिश्रण होता है जो आपकी प्लेटलेट को  बहुत तेज़ी से  बढ़ाने में मदद करता हैं।पपीता के पत्तों में प्रचुर मात्रा मे विटामिन सी होता है जो प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है .जबकि एंटीऑक्सीडेंट तनाव को कम करने और शरीर से विषाक्त(जहरीले जिन से रोग होने का डर होता है)पदार्थों को हटाने में मदद करते हैं। आपको बस  इतना करना है की इसकी पत्तियों से को पीसकर जूस छान ले और इसका सेवन करे

तुलसी(बेसिल) की पत्तियां
तुलसी के पत्ते चमत्कारी जड़ी बूटी हैं .जो न केवल डेंगू बुखार के दौरान मदद करते हैं, बल्कि आपकी समग्र प्रतिरक्षा में भी सुधार करते हैं। 

आप रोजाना 5-6 तुलसी के पत्ते  चबाये  इस से आपकी प्रतिरक्षा(रोग से लड़के की छमता ) मजबूत होगी.
डेंगू बुखार के लिए आयुर्वेदिक मे इसको खास जगह दी गयी है.तुलसी के पत्तों में प्राकृतिक कीटनाशक गुड होतेहै.
संतरे का रस
संतरे के अन्दर एंटीऑक्सिडेंट्स और विटामिन  प्रचुर मात्रा मे पाया जाता है । 

संतरे का रस डेंगू वायरस को खत्म करने में भी मदद करता है। इसको पिने से आप को पेशाब जादा लगेगी, जिससे आप के शरीर से विषाक्त पदार्थों बाहर निकल जायेंगे है। संतरे का रस भी आपके शरीर की कोशिकाओं की मरम्मत करता है क्योंकि इसमें विटामिन सी होता है जो कोलेजन बनाने में महत्वपूर्ण होता है।

डेंगू से कैसे बचे
इसका सब से जरुरी उपाय है की आप अपने घर को मच्छर मुक्त करे.जैसे हमे अपने देश को रोग मुक्त करना है.आप के घर मे जिन स्थानों पे पानी जमा होता है वह पे मच्छर को मरने वाली दवा को छिडकाव करे. मच्छंर आप न काट पाये इसके लिये क्रीम लगाकर रखें।अपने आवास के आस-पास गन्दगी न रखे .

0 on: "डेंगू का कारण, लक्षण और उपचार संबंधी जानकारी dengue fever treatment in hindi"