Facebook

Subscribe for New Post Notifications

Arquivo do blog

Categories

Ad Home

BANNER 728X90

Labels

Random Posts

Recent Posts

Recent in Sports

Header Ads

test

Popular Posts

Pages

Business

Fashion

Business

[3,Design,post-tag]

FEATURED POSTS

Theme images by Storman. Powered by Blogger.

Featured post

पंचतंत्र कहानियाँ Hindi stories for kids panchatantra

हम लाये है आप के लिए panchtantra ki kahaniya या फिर कहे bachon ki kahaniyan in hindi इस आर्टिकल में आप को moral stories for childrens in hi...

Featured

Saturday, 21 November 2015

पाइल्स का इलाज रामबाण इलाज piles treatment in hindi

इस पोस्ट मे आप को piles treatment in ayurveda और piles treatment at home in hindi या फिर how to get rid of piles इसके साथ ही bawaseer ka gharelu ilaj आप कुछ भी सोच के यहाँ आये हो आप की समस्या का निदान होगा.जैसे की हम पहले बोलते आये है हमरा लक्ष्य अपने देश को रोग से फ्री करना है और लोगो मे बीमारियों के प्रति जानकारी देना है .जिस वो टाइम से पहले सजक हो जाये  और अपना इलाज करा ले.

                                           
पाइल्स कहने के लिए सही है लेकिन भाई साहब आप उस से पूछो जिसको होता है.कितनी दिक्कत होती है पाइल्स होने पर सही से बैठ भी नहीं पाते है लोग.आज इस पोस्ट मे आप को पाइल्स के प्रकार उसका इलाज सब कुछ बताया गया है.बवासीर को  हेमोराइड के नाम से भी जाना जाता है एक शौध के अनुसार संयुक्त राज्य अमेरिका में 75 प्रतिशत लोगों को अपने जीवन काल  में पाइल्स होता जरुर है.ऐसा देखा गया है जब लोग 45 से 65 वर्ष के बीच होते हैं तो पाइल्स का खतरा और बड जाता है।यह समस्या तब होती है जब गुदा और गुदाशय के अन्दर  नसों मे सूजन हो जाती है ।पाइल्स होने के बहुत सारे कारण हो सकते है जैसे की
गुरुत्वाकर्षण, पारिवारिक इतिहास, कब्ज, कम फाइबर का आहार, भारी भार उठाने से , मोटापा, खाद्य एलर्जी,
शारीरिक गतिविधि की कमी, गर्भावस्था, और लंबे समय तक बैठे या खड़े होने जैसे बहुत सारे कारण है।

Hemorrhoids  दो प्रकार के होते हैं - आंतरिक या बाहरी।
आंतरिक बवासीर गुदा के अंदर  होते हैं और बाहरी बवासीर गुदा के चारों ओर त्वचा से नीचे झूलते हैं।

Bawaseer Symptoms

रक्त के थक्के या गुदा के चारों ओर गांठ हैं,मल त्याग के दौरान खून बहना, गुदा क्षेत्र के पास जलन आदि
बहुत लम्बे समय तक इसका कोई इलाज नहीं था लेकिन अब आप हर्बल तरीके से इसका इलाज कर सकते है
बवासीर ले कारण ब्लड हमारे बॉडी से कम होता है,ऊतक को खतम कर देता और यहां तक कि गुदा या कोलोरेक्टल कैंसर जैसी गंभीर बीमारी का कारण है.

इस बीमारी मे गुदा के अन्दर वाली दीवार मे पाई जाने वाली ब्लड की नसों मे सूजन आ जाती है और वो
फूल जाती है.जिसके कारण उनके अन्दर बहुत कमजोरी आ जाती है या फिर आप कह सकते है ,वीक पड़ जाती है.और फिर जब आप मल त्याग  के टाइम जादा जोर लगाते है तो इसकी रगड़ से ब्लड की नशे कट जाती है या फिर आप कह सकते है ब्लड की नसों मे दरार हो जाता है और जिसकी वजह से ब्लड निकलने लगता है.


बहुत सारे लोगो को यह अपने बड़े लोगो से मिल जाता है जो की उनकी आने वाली संतानों मे भी ट्रान्सफर हो जाता है आप कह सकते है की ये एक अनुवांशिक बीमारी है.अगर आप के पापा,दादा इस  रोग से पीड़ित है तो
आप के भी होने की पूरी सम्भावना है.
जो लोग खड़े होकर जादा काम करते है जैसे की सिक्यूरिटी गार्ड,पुलिस ,या फिर  बस कंडक्टर इनको बवासीर
होने की सम्भावना जादा होती है.
ऐसे लोग जो भारी वजन उठाते है जैसे की खेत मे काम करने वाले मजदूर,रेलवे स्टेशन पे कुली ये सब इस बीमारी के लपेटे मे जल्दी आते है
अगर आप को कब्ज है तो आप को बवासीर हो सकता है ,क्यों की कब्ज़ होने पर मल बहुत कठोर हो जाता है
जिस कारण उसका निकास आसानी से नहीं हो पता है.जिस कारण रक्त वाहनियों  के ऊपर बहुत दबाव पड़ता
है और वो फूल जाती है.

                                     



पाइल्स बढती उम्र के साथ लोगो मे कुछ जादा ही होती है अगर आप की लाइफ स्टाइल बिगड़ी हुई है तो आप को पाइल्स हो सकता है इसलिये अपनी लाइफ स्टाइल सुधार ले.
पाइल्स होने के कारण गुदा के मुँह पर मस्से बन जाते है.जो तरह के होते है एक सूखे और एक फुले.मल त्याग के टाइम बहुत दर्द होता है ऐसा लगता है की जान निकल जाएगी.

बवासीर के टाइप

खूनी बवासीर
खूनी पाइल्स होने पर किसी भी तरह का दर्द नहीं होता है.इसके होने पर सिर्फ और सिर्फ  ब्लड निकलता है।
खूनी पाइल्स मे मस्सा हो जाता है को अन्दर की ओर होता है और फिर धीरे-धीरे बाहर आने लगता है.मल त्याग के बाद अपने आप फिर अन्दर चला जाता है.और अगर ये बहुत पुराना हो जाता है तो सिर्फ हाथ से अन्दर के तरफ दबाने से ही अन्दर जाता है. और जब लास्ट स्टेज होती है तो हाथ से दबाने पर भी अन्दर की तरफ नहीं जाता है.
बादी पाइल्स
ये तरह के पाइल्स होने पर आप का पेट हमेशा ख़राब रहता है.आप को कब्ज की समस्या रहती है,पेट मे गैस बनती रहती है,इस सब कारण से पेट हमेशा ख़राब रहता है.अगर मल जादा कड़ा हो जाता है तो ब्लड भी आता है.इस तरह की पाइल्स होने पर जान निकलने वाली दर्द होती है.दर्द इतना होता है की आप बर्दास्त नहीं कर पाओगे.अगर आप को पाइल्स लास्ट स्टेज मे है तो आप को कैंसर भी हो सकता है  जिसको रिक्टम कैंसर के नाम से जाना जाता है.और जानलेवा होता है.
पाइल्स के लक्षण


बवासीर का बहुत जरुरी लक्षण है गुदा के रास्ते से ब्लड का निकलना स्टार्टिंग मे ब्लड की मात्रा कम होती है लेकिन दिन पर दिन ये बढती है.
1.मल के मुँह के आसपास की जगह  खुजली होने पर समझ जाये कुछ तो गड़बड़ है
2.अगर आप मल त्याग कर रहे है और आप को बहुत दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है तो भी पाइल्स होने के संकेत है
3.अगर आप के मलद्वार  के आसपास की जगह पर  दर्द होता है और अगर  सूजन भी है तो आप तुरंत सावधान हो जाये.
4.मलत्याग के दौरान अगर आप के ब्लीडिंग होती है तो भी ये सही संकेत नहीं है

पाइल्स का घरेलु इलाज


  • अगर आप रेशेदार आहार रोजाना नहीं ले रहे है तो आज से लेना शुरु कर दे.आप इसे अपने रोजाना जीवन का एक हिस्सा बना ले.
  • अगर आप पानी कम पीते है तो आज से हर दिन 8-10 गिलास पानी पीना स्टार्ट कर दे .वैसे पानी हर इंसान को अच्छी मात्रा मे पीना चाहयिए इस से आप को स्टोन होने का भी खतरा नहीं रहेगा.
  • अपनी जीवन शैली को अच्छा करे.  समय से आहार का सेवन करे.
  • रात को आप 100 gm किशमिश लीजिये और इसको पानी मे डाल दीजिये.अब रोजाना सुबह उठ कर जिस पानी मे आपने किशमिश को डुबोया था उसी पानी मे इसको मसलकर खाए.कुछ महीने तक लगातार इसका सेवन करे आप को बहुत फायदा मिलेगा




  • बड़ी इलायची  को 5.50 gram की मात्रा मे ले कर इसको भुन ले.जब ये ठंडी हो जाये,तो इसको पीसकर अच्छी तरह से चूरन बना ले.अब रोजाना  सुबह खली पेट इसको पानी के साथ पिए.ये आप को बहुत आराम देगा
  • अरंडी का तेल बवासीर के ऊपर लगाये इस आप को बहुत फायदा होगा
  • दालचीनी को ¼ चम्मच की मात्रा मे ले और अब इसको एक चम्मच सहद मिला कर खाए इस से आप को बहुत फायदा होगा.
  • अगर आप को पाइल्स है तो आप को मसालेदार,जादा मिर्ची वाले ,और जादा खट्टे खाने से दूर रहना पड़ेगा .
  • 50 gm जीरा पाउडर  लीजये इसमें थोडा नमल मिला कर इसको 1.5 लीटर मट्ठे के साथ जब भी आप को प्यास लगे पानी की तरह पि जाये.ये पाइल्स का रामबाण इलाज है.

  • आप इस विधि मे जामुन के बीज लेना है और इसको अच्छे से सुखा लेना है ऐसी ही आम के आम के बीज को अच्छे से सुखा ले .अब इन दोनों बीजों के अन्दर के भाग को पीसकर का चूरन बना ले.अब इस चूरन को एक चम्मच  हल्के गर्म पानी या फिर मट्ठे के साथ रोजाना ले


  • अगर आप बीन्स,राजमा और दालें या फिर मटर को अपने आहार मे नहीं शमिल करते है तो आज से ही इनको अपने  आहार का हिस्सा बना ले.
  • रोजाना फलों के फ्रेश रस और सब्जियों के सूप का सेवन करे
  • केला एक ऐसा फल है जो हमेशा मिलता है पुरे साल और जादा महंगा भी नहीं है .आप रोजाना सुबह केला खाए.




  • अगर आप .शराब पीते है तो आज से ही पीना छोड़ दे क्यों की अगर आप की जान रहेगी तो दुबारा पि सकते है,इसके साथ ही चाय और कॉफ़ी का भी कम पिये या फिर कुछ दिन के लिए छोड़ दे जब तक आप ठीक नहीं हो जाते
  • मै तो आप को ये सलाह दूंगा की आप के पाइल्स हो ना हो लेकिन रोजाना व्यायाम करें.


  • रोजाना रात में सोने से पहले  खजूर को पानी मे डालकर  फूला लें. और सुबह इसका सेवन करे.इसके सेवन से आप का पेट सही रहेगा.

पाइल्‍स खतम करने के लिए जोंक कारगार है




जी है आप जोंक नाम सुनते ही डर गये होंगे क्यों की आप को तो इतना पता होगा की जोंक हमारे शरीर से खून चूसता है.लेकिन आप को मे आज बताने जा रहा हु की ये कीड़ा कितना लाभदायक है.
काशी हिन्दू विस्वविद्यालय के आयुर्वेद विभाग ने  एक शौध
मे ये निष्कर्ष निकाला की जोंक पाइल्स के इलाज के लिए बहुत कारगार है इसके साथ ही ये हाथी पांव जैसी गंभीर बीमारी के लिए भी रामबाण इलाज .आप को ये भी बता दू की जोंक कील मुहासों से भी छुटकारा दिलाता है बीएचयू के आयुर्वेद विभाग  मे पुरानी लीच विधि से पाइल्स और फैलेरिया जैसी बीमारियो का इलाज किया जाता है.बीएचयू मे आयुर्वेद विभाग के डॉक्टर सुभाष चन्द्र ने बताया की रोगी के ऊपर चिपके जोंक से आप ये न समझे की  ये आप का ब्लड चूस रहा है.बलकि ये कीड़ा ब्लड तो चूस रहा है लेकिन वो ब्लड चूस रहा है जो गन्दा है और आप के बॉडी मे रोग का कारण है.
लगभग  30 से 45 मिनट तक रोग ग्रस्त स्तनों पर लीच को लगाया जाता है। इसके साथ ही जोंक को इलाज से पहले हरिन्द्रा के चूर्ण में पूरी तरह से डुबोया जाता है और उसके बाद इसका इस्तेमाल रोग पर किया जाता है जिसके कारण  गन्दा ब्लड चूसने के साथ औषधि बॉडी  में जा सके

इस हमारे बीएचयू आयुर्वेद विभाग की बहुत बड़ी कामयाबी है जो लोग अंग्रेगी दवा से परेशान है वो अपना इलाज यहाँ करा सकते है इस पोस्ट को आप जितना हो सके शेयर करे जिस हमारे देश का नाम हो इसके हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे और शेयर करे.लाइक करने के लिए इस लिक पे क्लिक करे फेसबुक पेज लाइक

पाइल्स के बारे मे और भी पढ़े इस लिंक पे क्लिक कर के

0 on: "पाइल्स का इलाज रामबाण इलाज piles treatment in hindi"