Facebook

Subscribe for New Post Notifications

Arquivo do blog

Categories

Ad Home

BANNER 728X90

Labels

Random Posts

Recent Posts

Recent in Sports

Header Ads

test

Popular Posts

Pages

Business

Fashion

Business

[3,Design,post-tag]

FEATURED POSTS

Theme images by Storman. Powered by Blogger.

Featured post

पंचतंत्र कहानियाँ Hindi stories for kids panchatantra

हम लाये है आप के लिए panchtantra ki kahaniya या फिर कहे bachon ki kahaniyan in hindi इस आर्टिकल में आप को moral stories for childrens in hi...

Featured

Wednesday, 30 May 2018

बवासीर को जड़ से ख़त्म करे bawaseer ka ilaj

इस पोस्ट मे आप को piles treatment at home in Hindi और piles treatment in Hindi और इसके साथ ही piles treatment in ayurveda in Hindi और piles home remedies in Hindi के बारे मे बताया गया है.जैसा ही हम आप को पहले भी बता चुके है की हमारा लक्ष्य रोग मुक्त भारत बनाना है .इसके लिए आप हमारी मदद करे और इन सब बीमारियों की जानकारी दुसरो तक भी पहुचाये .आप हमारा फेसबुक पेज भी लाइक कर सकते है इसके लिए इस लिंक पे क्लिक करे फेसबुक पेज लाइक करने के लिए क्लिक करे 


बवासीर  को इंग्लिश मे हैमरॉइड कहा जाता है इस से  दुनिया भर मे बहुत से लोग पीड़ित है इस बीमारी का प्रमुख कारण हमारी जीवन शैली है.खान-पीन टाइम से ना करना इसका प्रमुख कारण है.
बवासीर  मे होने वाला दर्द बर्दास्त के बाहर होता है ऐसा प्रतीत होता है की यमराज खुद लेने आये हुए है.
Hemorrhoids गुदा के निचले हिस्से में स्थित रक्त वाहिकाओं को सूजन कर के बड़ा देता हैं। उनके भीतर दबाव बढ़ने के कारण रक्त वाहिकाओं मे सूजन हो जाती है।बवासीर आमतौर पर पेट के निचले भाग मे दबाव में वृद्धि के कारण होता  हैं।
किस भी इंसान को बवासीर दो तरीके से हो सकते है, अंदरूनी और बाहरी। 
  • अंदरूनी बवासीर में नसों की सूजन दिखती नहीं लेकिन आप को महसूस होगी, आंतरिक बवासीर गुदा की अंदरूनी परत पर होते हैं ।
  • बाहरी बवासीर में  सूजन गुदा के बाहर दिखती है।बाहरी बवासीर गुदा के बाहरी पर त्वचा के नीचे होते  हैं।
Hemorrhoids के कारण
  • गर्भावस्था के दौरान
  • मोटापा भी इसका कारण है
  • लंबे समय तक बैठे रहना या फिर लम्बे समय तक खड़े रहने से बवासीर होने की सम्भावना बड जाती है
  • मलाशय का कैंसर
  • गुदा संभोग

बवासीर के घरेलु उपचार
बर्फ

बर्फ  को पाइल्स होने पर सब से जादा इस्तेमाल किया जाता है। बर्फ रक्त वाहिकाओं को कम कर के , सूजन को कम कर के आपको तुरंत दर्द राहत देने में मदद करता है।
लगभग 10 मिनट तक प्रभावित क्षेत्र पर कपड़े में एक बर्फ टुकड़ा लपेटकर धीरे-धीरे लगाये आप को आराम मिलेगा। हेमोराइड दूर होने तक इसे कई बार ऐसा करें।

Aloe Vera (मुसब्बर वेरा)

एलोवेरा बवासीर के इलाज के लिए प्रकृति उपायों मे से एक है।
एलोवेरा  के anti-inflammatory और therapeutic गुड बवासीर की जलन को कम करने में बहुत  मदद करते हैं। आप को यह भी बता दे की एलोवेरा आंतरिक और बाहरी बवासीर के लिए बहुत फायदेमंद है और इन दोनों के लिए इसका इस्तेमाल होता है.अगर आप को बाहरी बवासीर है तो ,अपने गुदा में थोड़ा एलोवेरा जेल लगाये और धीरे-धीरे इस से मालिश करें।यह बहुत आसान तरीका है जलन को कम करने का.अगर आप को आंतरिक बवासीर है, एलोवेरा  की पत्तियों को छोटे-छोटे टुकडो मे काट ले पौधे के कांटेदार हिस्सों को काट कर निकाल दे टुकडो  को एक कंटेनर में रखें और उन्हें फ्रीज करें दे ।अब इस ठंडी एलोवेरा से हेमोराइड  पर धीरे -धीरे मालिस करे इस से आप को  दर्द, जलन, और खुजली से छुटकारा मिलेगा.
नींबू का रस


नींबू के रस में बहुत तरह के पोषक तत्व होते हैं जो आपको केशिकाओं और रक्त वाहिकाओं की दीवारों को
मजबूत करके बवासीर से राहत प्रदान करते हैं।
रुई को ताजा नींबू  के रस से भिगो ले और इसको हीमोराइड(बवासीर) पर धीरे -धीरे लगाये आप को आराम होगा शुरुआत में हल्का जलन का अनुभव हो सकता है, लेकिन दर्द से राहत देने मे जल्दी ही आप की मदद करेगी।या फिर आप आधे नींबू को गर्म दूध के कप में निचोड़ें और इसका सेवन करे । अच्छे  परिणामों के लिए हर तीन घंटे मे ऐसा करें।नींबू का रस, अदरक का रस, टकसाल(पुदीने) का रस और शहद सब को डेढ़ चम्मच की मात्रा मे ले ।और इसे दिन मे एक बार ले आप को बहुत आराम मिलेगा

बादाम तेल

बादाम के तेल को emollient और deep tissue absorption के  गुणों  के कारण जाना जाता है.ये जादातर  बाहरी हेमोराइड के  उपचार के लिए उपयोग किया जाता है।शुद्ध बादाम के तेल में एक रुई को डुबोएं और इसे प्रभावित क्षेत्र पर लागू करें।यह सूजन को मॉइस्चराइज  करता है, और गुदा के आस-पास  खुजली  से छुटकारा दिलाता है। दिन मे 3 से 4 बार ऐसा करे

जैतून का तेल

जैतून का तेल मे anti-inflammatory और एंटीऑक्सीडेंट का  गुण होता है और यह  बाहरी बवासीर का इलाज करने के लिए प्रयोग किया जाता है।बाहरी बवासीर के लिए ये बहुत ही उपयोगी साबित हुआ है.यह रक्त वाहिकाओं को लचीला करता है, जो बदले में सूजन को कम करने में मदद करती  है और गुदा रक्त वाहिकाओं के सुज़न को कम कर के आराम देता है।एक चम्मच जैतून के तेल का प्रतिदिन सेवन करें। यह सूजन को कम करने में मदद करेगा और monounsaturated वसा उत्सर्जन प्रणाली की कार्यक्षमता में सुधार करेगा.कुछ पल्म(बेर) के पत्तो का जूस निकाल ले और इसे जैतून  के तेल मे मिला ले .अब इसको बवासीर पर लागू करें इस आप के दर्द मे कमी होती है और सूजन से भी राहत देगा.
Whole Grains

यदि आप बवासीर से पीड़ित हैं तो Whole Grainsउत्पादों को खाना शुरू करें। Whole Grains उत्पादों में
फाइबर की एक अच्छी मात्रा होती है, जो हेमोराइड के लक्षणों और रक्तस्राव से मुक्त होने में अत्यधिक प्रभावी होती है।यह पोषक तत्व गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल सिस्टम को साफ करने में मदद करता है, कब्ज को रोकता है और कोलन को अधिक कुशलता से काम करने मे मदद देता है। फाइबर से भरपूर खाद्य पदार्थ मल को नरम करते  हैं ओट, जौ, मक्का, ब्राउन चावल, बाजरा, क्विनोआ को सब से अच्छा Whole Grains माना जाता है इनमे
फाइबर  प्रचुर मात्रा मे होता है.
नारियल का तेल

बवासीर के ऊपर नारियल के तेल को लगाने  से सूजन और जलन कम हो सकती है इस से आप को खुजली की भी इच्छा कम होगी ,क्योंकि यह एक प्राकृतिक मॉइस्चराइजर है।
खूब पानी पिए

अगर आप  पानी खूब पियेंगे तो ये  मल को नरम कर देता  है और जिसके कारण कब्ज और
तनाव को कम कर देता है। एक दिन में लगभग 6 से 8 गिलास पानी पिए

बवासीर के बारे मे और जानकारी के लिए इस लाइन पे क्लिक करे

0 on: "बवासीर को जड़ से ख़त्म करे bawaseer ka ilaj"