Facebook

Subscribe for New Post Notifications

Arquivo do blog

Categories

Ad Home

BANNER 728X90

Labels

Random Posts

Recent Posts

Recent in Sports

Header Ads

test

Popular Posts

Pages

Business

Fashion

Business

[3,Design,post-tag]

FEATURED POSTS

Theme images by Storman. Powered by Blogger.

Featured post

पंचतंत्र कहानियाँ Hindi stories for kids panchatantra

हम लाये है आप के लिए panchtantra ki kahaniya या फिर कहे bachon ki kahaniyan in hindi इस आर्टिकल में आप को moral stories for childrens in hi...

Featured

Sunday, 17 June 2018

arthritis को कहे अलविदा arthritis in hindi

अगर आपको भी है arthritis की शिकायत तो home remedies for arthritis in hindi और 
arthritis ka ilaj in hindi या arthritis ka ilaj या फिर causes of arthritis in hindi और natural joint pain relief इस पोस्ट को read करने के बाद आपको arthritis की शिकायत नहीं होगी इस पोद्त से आपको काफी मदद मिलेगी.


आर्थराइटिस में होने वाला दर्द रोगी की जीवनशैली बदल देता है लेकिन खान-पान में कुछ बदलाव करने से आप  positive change feel करेंगे तो जानते है की ऐसे कौन से पदार्थ है जिनसे ये चमत्कार हो सकता है.


fiber :- fiber research बताती है की भोजन में fiber की मात्र बढाने से शरीर में C-reactive protein(CRP) का स्तर घट जाता है. CRP सुजन का सूचक होता है तो अगर आपको arthritis से  लड़ना है तो फल, हरी सब्जियां, गाजर, संतरे, स्ट्रॉबेरी को diet में add करे.

                                         

प्याज-लहसुन :- प्याज, हरि प्याज और लहसुन में एलाइल प्रोपाइल डाय सल्फाइड योगिक होता है जो arthritis में भी लाभगाड होता है.
                                         



गोभी और ब्रोकली :- फूल गोभी , पत्ता गोभी और ब्रोकली जैसे पत्ते दार सब्जियों में sulforaphane नामक मौजूद chemical होता है Osteoarthritis की वजह से होने वाली हड्डियों के नुक्सान को कम करने में हेल्प करता है.
                                          

हल्दी :- हल्दी में मौजूद cur-cumin  जोड़ो को बीमारियों से सम्बंध सूजन को control करने में helpful होता है.
विधि: 1/4 कप हल्दी पाउडर में एक चम्मच काली मिर्च मिलाएं।
अब इसको आप रख ले किसी डिब्बे मे। जब खाना बनाये हल्दी की जगह इस मिक्सचर का प्रयोग
करे.
अच्छी वासा :-   arthritis की सुजन को कम करने में omega 3 fatty acid helpful होते है इन्हें पालक, सोयाबीन, अलसी, अखरोट, मछली आदि के माध्यम से लिया जा सकता है
सुबह की धुप सेंकना :- सुबह जब आप सूर्योदय के समय आप सूरज के सामने खड़े होते है तो आपके शरीर में natural तरीके से  vitamin D और रोग प्रतिरोधक शक्ति  बढती है. तो आपके लिए सूरज के सामने खड़े होना फायदेमंद हो सकता है.
विटामिन-सी :- vitamin-c में available antioxidants Osteoarthritis को बड़ने से रोकते है इसलिए arthritis के रोगीओ को  संतरे, टमाटर, अमरुद, स्ट्रॉबेरी, कीवी आदि का सेवन करने से काफी फ़ायदा होता है


गठिया के दर्द का रामबाण इलाज :-

अगर गठिया का दर्द आपको रह-रह कर आपकी पैर की उंगलियों, घुटनो और एड़ियों में दर्द होता है तो बस समझ जाइये की आपके शरीर में uric acid की मात्रा  बढ़ गई है. जब uric acid crystal की तरह हाँथ पैरो में जम जाता है तो उसे गठिया की बीमारी कहते है. अगर आप गठिया के दर्द को अनदेखा करते है तो उठना बैठना मुश्किल हो जाता है.
इस problem के  लिए कच्चे पपीते का ड्रिंक बहुत helpful है कच्चा पपीता आपके इस problem को दूर करेगा.

जाने कैसे बनता है कच्चा पपीते का ड्रिंक


  • सबसे पहले साफ़ बर्तन में 2 लीटर साफ पानी लेकर इसको अच्छे से boil करना है.
  •  फिर एक medium size का कच्चा पपीता लीजिये और उसे अच्छी  तरह धो लीजिये.
  • पपीते के बीज को use नही करना है उसे फेंक  देना है.
  •  इसके बाद पपीते के छोटे-छोटे टुकड़े  कर लिजिय.
  •  इन टुकड़ो को उबलते पनी में डाल कर 5 min.तक उबाले फिर इस उबलते पानी में 2चम्मच green tea leaves चाय की पत्तियां  add कर  दीजिये. 
  • थोड़ी देर उबाल लीजिये इस पानी को छान कर ठंडा कर दीजिये. 
  • इसी process से ये ड्रिंक ready हो जायगा.
  • इस पानी को आप दिनभर पीते रहिये.
  • जब भी आपको प्यास लगे आप इसी पानी को पीजिये आप खुद ही महसूस कर पायंगे की आपके जोड़ो में फायदा होने लगा है. दर्द आपका मिटने लगा है .
  •  बस आपने इस पानी को लगातार पीना है. जैसे आप daily पानी पीते है वेसे ही आपने इसको भी लेना है दर्द छू हो जायगा.
  •  इसके बाद भी अगर कोई फर्क न पड़े तो आप डॉ. को दिखाइए.  वेसे तो ये बहुत ही लाभदायक है इस समस्या के लिए.


पहचाने इन लक्षणों से गठिया है या नहीं.


  • गठिया का दर्द अलग-अलग स्तर पर होता है जैसे की सुजन, जोड़ो की कठोरता और जोड़ो के आस-पास निरंतर दर्द ये सब इसके सामान्य लक्षण है.
  • हाथ का movement करने में असमर्थ्ता  पैरो के दर्द के कारण चलने में तकलीफ, हमेशा थकान रहना, अनिंद्र, बुखार, मशपेशियों में दर्द और बदन दर्द, शरीर में जड़ता ये सारे गठिया के लक्षण है.
  • शरीर में estrogen की कमी के कारण arthritis होता है ये problem female में जादा होती है. thyroid के कारण भी आपको ये बीमारी हो सकती है. तवचा या खून सम्बन्धी बीमारी होने पर भी  हड्डियों के जोड़ो में दर्द पैदा होना शुरू हो जता है.
  •  कई बार शरीर में iron और calcium की अति होने से भी ये problem हो सकती है. 
  • पोषण की कमी के कारण भी कई बार rheumatoid arthritis होता है जिससे जोड़ो में दर्द, सूजन, गांठो में अकड़न आ जाती है





Arthritis Research UK ने एक Research किया था और उसने पाया  22 चीजों मे आर्थराइटिस के लिए सबसे प्रभावी कैप्सैकिन को बताया है.
जिसके कारण  इसको 5 में से 5 का स्कोर दिया गया।
विधि: एक सॉस पैन में   ½ कप जैतून का तेल धीरे-धीरे गर्म करें और केयने पाउडर के दो चम्मच मिलाये
तब तक गर्म करे जब तक पाउडर dissolved ना हो जाये, ठंडा होने दें, और एक ग्लास निकाल ले।
जब भी गठिया कर दर्द जादा हो इस oil से आप मालिस करे .

अदरक
एक सर्वे मे ये पाया गया है की जो लोग रोजाना अदरक को अपने आहार मे शामिल करते है उनमे घुटने के दर्द में की सम्भावना 63% कम होती है .

अदरक कैप्सूल  भी  मार्किट में  उपलब्ध हैं, लेकिन आप अपने आहार में अधिक ताजा
अदरक को शामिल करने का प्रयास करे।
आप एक मसालेदार, चाय में अदरक डाल के इसका आनंद ले सकते हैं।
विधि: सॉस पैन में तीन कप पानी उबाल लें। ताजा grated
अदरक को 1-2 चम्मच इसमें मिलाये। दस मिनट तक उबाल लें।
 शहद मिला कर चाय की तरह इसका आनंद ले ।

अपना वजन कम करे


अगर आप का वजन बहुत जादा है तो आप अपना वजन कम करे .जादा वजन होने से ये हमारे जोड़े पे दबाव डालता है
जिस से हमे गठिया की प्रॉब्लम हो सकती है.
वजन कम करने का कोई शॉर्टकट तरीका नहीं है .इसके लिए आप को मेहनत करनी होगी और कसरत को
रोजाना की जीवन शैली मे लाना होगा.अगर आप वजन कम करना चाहते है घरेलु तरीके से तो मैंने ये पोस्ट लिखा हुआ है इस विषय पे आप क्लिक कर के पढ़ सकते है

हमारा  लक्ष्य "दोस्तों हमारा लक्ष्य सिर्फ और सिर्फ रोग मुक्त भारत बनाना है हम चाहते है की अधिक से अधिक लोगो तक हेल्थ की जानकारी पहुचे इसके लिए आप हमारा सहयोग करे,खुद पढ़े और दुसरो को पढाये.आप हमारे फेसबुक पेज को भी लाइक कर सकते है इसके लिए इस लिंक पे क्लिक करे फेसबुक पेज या फिर अगर आप फ़ोन से ये जानकारी पढ़ रहे है तो सब से निचे फेसबुक लाइक करने का बटन है अगर आप कंप्यूटर से पढ़ रहे है तो साइड मे आप को फेसबुक लाइक का बटन दिख जायेगा."

0 on: "arthritis को कहे अलविदा arthritis in hindi"