Facebook

Subscribe for New Post Notifications

Arquivo do blog

Categories

Ad Home

BANNER 728X90

Labels

Random Posts

Recent Posts

Recent in Sports

Header Ads

test

Popular Posts

Pages

Business

Fashion

Business

[3,Design,post-tag]

FEATURED POSTS

Theme images by Storman. Powered by Blogger.

Featured post

पंचतंत्र कहानियाँ Hindi stories for kids panchatantra

हम लाये है आप के लिए panchtantra ki kahaniya या फिर कहे bachon ki kahaniyan in hindi इस आर्टिकल में आप को moral stories for childrens in hi...

Featured

Tuesday, 24 July 2018

डेंगू ले सकता है जान dengue ke lakshan


डेंगू से हो जाय सावधान क्यूंकि ये खतरनाक है अगर आप डेंगू से बचना चाहते है तो आप dengue fever in hindi और dengue symptoms in hindi से जाने कैसे डेंगू से सावधान रहना है और dengue bukhar ka ilaj hindi या dengu ka upchar या फिर dengue ayurvedic treatment in hindi इस पोस्ट की मदद से आप डेंगू का सही तरीके से उचार कर सकते है और खुद को डेंगू से बचा सकते है इसके आलावा dengue in hindi language या dengue ke lakshan hindi me भी जान सकते है अगर डेंगू बुखार का अच्छे से treatment न किया जाय तो ये जान भी ले सकता है इसलिए इस post में हम आपको डेंगू से related बहुत सारी जानकरी आपको देना चाहते है जिससे आप स्वस्थ रहे मस्त रहे.

डेंगू

आजकल डेंगू एक जानलेवा बीमारी बनती जा रही है जिससे हर साल दुनिया में लगभग 10करोड़ लोगो को डेंगू होता है भारत में लाखों लोग देंगुर से मर जाते है  डेंगू संक्रामक रोग है जो मच्छरों के काटने से होता है डेंगू वायरस से फैलने वाली बीमारी है डेंगू के चार प्रकार के वायरस पाय जाते है जिनमे से अगर एक प्रकार का वायरस से रोगी ग्रस्त होता है तो वह ठेक भी हो सकता है और मरीज उस वायरस से लम्बे तक उसे प्रतिरोधक क्षमता भी मिल जाती है और फिर उस प्रकार के वायरस से ग्रस्त नहीं होता है लेकिन जो डेंगू के बाकि वायरस होते है वो खरतनाक और गंभीर होते है अगर एक बार भी इन वायरस की वजह से डेंगू का बुखार हो जाता है और ठीक होने पर जब दूसरी बार यही वायरस attack करता है तो ये काफी गंभीर हो सकता है तो ऐसी condition में आपको बहुत सावधान रखनी है डेंगू का बुखार होने पर काफी मुश्किल हो जाता है.


कैसे होता है डेंगू बुखार :-


  • डेंगू का नाम होता है Aedes aegypti
डेंगू fever छूने से, हवा, पानी या साथ खाने से नहीं होता है कई लोग मरीज के साथ  अछूत जैसा व्यवहार करने लगते है जो की बहुत गलत है डेंगू fever छूने से, हवा से , पानी से या साथ खाने नहीं फैलता है ये फैलता है एक मादा मच्छर aedes aegypt के द्वारा जब मादा मच्छर किसी infected व्यक्ति को काट लेती है और फिर उसके बाद ये किसी स्वस्थ व्यक्ति को काटती है तो उसको वो वायरस उस स्वस्थ व्यक्ति के खून में चला जाता है transferहो जाता है और ऐसी स्थति में स्वस्थ व्यक्ति भी डेंगू के वायरस से पीड़ित हो जाता है.
डेंगू fever बहुत खतरनाक होता है क्यूंकि जो हमारे शरीर में खून होता है उसमे जो platelets count बहुत down हो जाता है और इतना down हो जाता है की कई बार व्यक्ति की मौत हो जाती है.


डेंगू के मच्छर दिन में जादा active होते है और जो रात में आपको मच्छर काटते है तो वो जरुरी नहीं के वो डेंगू के मच्छर हो  लेकिन अगर आपके घर में या आपके घर के आस-पास दिन में मच्छर नज़र आते है तो समझ लीजिये की खतरा ज्यादा है क्यूंकि डेंगू के मच्छर दिन में ज्यादा active होते है और इन मच्छरों के शरीर पर चीते जैसी सफ़ेद रंग की धारियां होती है और डेंगू का मच्छर ज्यादा उंचाई तक नहीं उड़ पाता है 6-7 फीट की उंचाई तक ही उड़ता है इसलिए ये और बी ज्यादा खतरनाक है क्यूंकि ये आपके आस-पास ही रहता है. ठन्डे और छाँव वाले जगहों पर ये मच्छर रह पसंद करते है परदे या अँधेरी वाली जगहों पर ये मच्छर ज्यादा पाय जाते है घर में रखे हुए. जहाँ पे ये  मच्छर जन्म लेते है वही से २०० मीटर के दायरे में ये मच्छर उड़ते है साफ़ पानी में ही मच्छर होते है गंदे पानी में नहीं होते और पानी के सूख जाने के बाद भी इनके अंडे 12 महीने तक जीवित रहते है.


डेंगू के लक्ष्ण :-


  • मांसपेशियों और हड्डियों में दर्द होता है.
  • तेज ठण्ड का लगना 
  • तेज सर दर्द होना
  • आँखों में दर्द होना
  • बदन दर्द
  • तेज बुखार 
  • शरीर में कमजोरी और rashes होना
  • अचानक बदन में दर्द होना या फिर जोड़ो में अचानक दर्द महसूस करना  


  • भूक कम लगना 
  • मसूड़ों से खून आना 
  • जी मचलना 
  • उलटी ही जाना 
  •  दस्त लगना 
  • चमड़ी के नीचे लाल चकते हो जाना 
  • डेंगू की खतरनाक condition होने पर आँख या नाक में से खून निकल सकता है.

डेंगू के उपचार  :-


  • अपने घर में कपूर और लोभन की धुप करते है तो मच्छर घर में फ़ैल नहीं पाते है.
  • daily आपको तुलसी का सेवन करना है.
  • नीम की पत्ती का सेवन करें.
  • ज्यादा से ज्यादा पानी का सेवन करें.
  • डेंगू fever में plates lates बढाने के लिए पपीते के पेड़ के पत्ते ये पत्ते न तो ज्यादा नए होने चाहिए और ना ही बहुत ज्यादा पुराने होने चाहिए और इसका रस आपको या तो लकड़ी की ओखली में निकालें या स्टील के बर्तन में और जब इसका रस निकल जाय इसको कांच की शीशी में भर लें.

Adult :- 10 ml दिन में दो बार देना है.
चाइल्ड है 5-12 साल का है तो 2.5 ml दिन में 2 बार देना है



  • पपीते में पाय जाने वाले enzymes खून को जमने नहीं देते लीवर की कार्य क्षमता बढ़ाते है और साथ ही platelets  को भी तेजी से बढ़ाते है जिससे डेंगू का बुखार जल्द ही ठीक हो जाता है.
  • बकरी का दूध पचाने में आसान होता है लीवर पर ज्यादा दवाब नहीं डालता और immunity(रोग प्रतिरोधक क्षमता) को बढाता है.
  • 20-30 ml Aloe-Vera का रस सुबह और शाम पीना है.
  • ये आपके लीवर को मजबूत करेगा और डेंगू को बहुत ही जल्द ठीक कर देगा.
  • ग्लोय में 6-7 तुलसी की पत्ती मिलकर के उसका रस निकाल लेना है और इस रस को दिन में 2 बार इसको लेना है इससे डेंगू बहुत जल्द ठीक हो जायगा 
  • दिन में 3-4 बार ताजे अनार का juice पीना चाहिए इसे पीने से रोगी के शरीर में खून बनता है और रोगी की रोग से लड़ने की क्षमता बढती है.
  • नारियल पानी का ज्यादा से ज्यादा सेवन करें 
  • रोगी को सेब का रस पिलायं या सेब खिलायं इससे ताकत उत्पान्न होती है और रोग प्रति रोधक क्षमता बढती जिससे रोगी अपने आपको डेंगू से लड़ने के लिए खुद को तयार कर पाता है 

सावधानियां :- 



  • घर पर की भी बर्तन जिसमे पानी भरा हो उसे खुल्ला मत छोड़िये
  • अपने डॉ. से सलाह ले.
  • daily platelets काउंट की जांच करवाईये क्यूंकि डेंगू मरीज की platelets तेजी से कम होने लगती है 
  • जहा ज्यादा मच्छर हो वह ना जायं.
  • बुखार या सर दर्द होने पर भूलकर भी paracetamol या brufen और aspirin का उपयोग ना कीजिये.
  • daily कूलर का पानी change करते रहे और इस पानी को ऐसी जगह फेंक दे जहा पानी रुकता ना हो और कोशिश करें की आपके आस-पास गड्ढ़ों में, गमलों में या बगीचे में  पानी जमा ना हो.
  • डेंगू के मच्छर हमेशा साफ़ पानी में अंडे देते है.
  • अगर आपके घर के पास कहीं पानी जमा हो तो जलता oil दाल दें kerosene oil  दाल दें.
  • अपने शरीर पर नीम का तेल मल कर सोयें .
दोस्तों हमारा लक्ष्य सिर्फ और सिर्फ रोग मुक्त भारत बनाना है हम चाहते है की अधिक से अधिक लोगो तक हेल्थ की जानकारी पहुचे 
इसके लिए आप हमारा सहयोग करे,खुद पढ़े और दुसरो को पढाये.आप हमारे फेसबुक पेज को भी लाइक कर सकते है इसके लिए इस लिंक पे क्लिक करे फेसबुक पेज
या फिर अगर आप फ़ोन से ये जानकारी पढ़ रहे है तो सब से निचे फेसबुक लाइक करने का बटन है अगर आप कंप्यूटर से पढ़ रहे है तो साइड मे आप को फेसबुक लाइक 
का बटन दिख जायेगा.


0 on: "डेंगू ले सकता है जान dengue ke lakshan"